vartigo क्या है ? इसका इलाज किस प्रकार किया जाता है ?

vartigo क्या है ? इसका इलाज किस प्रकार किया जाता है ?


दोस्तों, वर्टिगो एक प्रकार की कंडीशन जिसमें व्यक्ति को अपने आसपास की चीज घूमती हुई महसूस होती है व्यक्ति को वर्टिगो के कारण कमजोरी तथा सिर में भारीपन जैसा महसूस हो सकता है । 

vartigo में किस प्रकार के लक्षण दिखाई देते हैं ?

- सर चकराना, 

- आंखों को एक जगह केंद्रित करने में मुश्किल होना, 

- अगर वर्टिगो की त्रीवता ज्यादा है तो उससे व्यक्ति की सुनने की शक्ति भी कम हो जाती है, 

- अपने आप को स्थिर रखने में मुश्किलें आती है,

- कानो में सुन्न जैसा आवाज आना,

- पसीना आना,

- जी घबराना,

- उल्टी होना,

vartigo होने के पीछे क्या कारण हो सकता है ?

- vartigo व्यक्ति में तभी देखा गया कि जब उस व्यक्ति को पहले से ही कोई बीमारी हो रखी हो । जैसे  -

- माइग्रेन, 

- कमजोरी,

- हाई बी.पी - लो बी.पी, 

- लो ब्लड शुगर, 

इसके अलावा,

- जरूरत से ज्यादा शराब का सेवन करने पर, 

- कुछ मेडिसिन जिसे लेने के बाद vartigo देखने को मिल सकती है( वे मेडिसिन कोई भी हो सकते है )

- गर्भावस्था के दौरान( महिलाओं में गर्भावस्था के दौरान चक्कर जैसा तथा उल्टी इत्यादि के लक्षण देखने को मिलते हैं ),

- मोशन सिकनेस( यानी सफर इत्यादि करने के दौरान किसी-किसी व्यक्ति को उल्टी तथा चक्कर जैसा महसूस होता है ), 

- महिलाओं में मासिक चक्र के दौरान, 

- insomnia ( अगर व्यक्ति को अनिद्रा की शिकायत है ),

- किसी दुर्घटना इत्यादि के कारण सर में चोट लग जाने से,

vartigo का इलाज किस प्रकार किया जाता है ?

अगर किसी को बिना किसी की बीमारी की वजह से वर्टिगो है तो उसके इलाज के लिए यह टेबलेट दिया जा सकता है -

Cinnarizine tablets 25 & 75 mg.

या,

Prochlorperazine maleate tablets.

अगर किसी व्यक्ति को किसी बीमारी की वजह से वर्टिगो हो रहा है तो सबसे पहले उस बीमारी को ठीक करने की आवश्यकता है इसके लिए आप किसी डॉक्टर से मिले तथा उनके द्वारा बताए गए निर्देशों का पालन करें ।

Injection -

Prochlorperazine 2ml ( इस इंजेक्शन का प्रयोग मुख्यत: तभी किया जाता है जब मरीज की स्थिति काफी ज्यादा खराब हो चुकी हो वरना सामान्य स्थिति में मरीज का टेबलेट्स से ही इलाज किया जाता है )

Dose -

इन टेबलेट को मरीज के जरूरत के अनुसार दी जा सकती है अगर किसी मरीज को कुछ ज्यादा ही तकलीफ है तो उसे यह टेबलेट दिन में 2 बार या 3 बार तक भी दी जा सकती है ।

Post a Comment

Previous Post Next Post