"Dinoprostone gel" क्रीम प्रसव के दौरान गर्भवती महिलओं के लिए किस प्रकार उपयोगी है ?

"Dinoprostone gel" क्रीम प्रसव के दौरान गर्भवती महिलओं के लिए किस प्रकार उपयोगी है ?


आज हम प्रसव के समय उपयोग में लाए जाने वाले एक ऐसे जेल के बारे में बात करने जा रहे हैं जिसका नाम " Dinoprostone gel " है, आज हम इस पोस्ट में जानेंगे कि Dinoprostone gel क्या है? किस प्रकार कार्य करती है? किन-किन परिस्थितियों में किसका प्रयोग किया जाता है? इसका प्रयोग किस प्रकार किया जाता है? तथा इसके अलावा इसके साइड इफेक्ट के बारे में भी जानेंगे ? 

दोस्तों, Dinoprostone gel एक प्रोस्टाग्लैंडइन मेडिसिन है, जिसे हम PGE2 भी कहते हैं । यह एक हार्मोनाल मेडिसिन है । इस मेडिसिन का उपयोग गर्भवती महिलाओं में प्रसव के समय प्रसव को आसान बनाने के लिए प्रयोग में लाया जाता है । यह मेडिसिन मार्केट में आपको 0.5mg स्ट्रेंथ के साथ आसानी से मिल जाएगी । इस मेडिसिन की खास बात यह जानने की आवश्यकता है कि यह मेडिसिन हमेशा 2℃ से 8℃ तापमान के अंदर ही रखना होता है ।

Popular Brand Name - 

  1. Cerviprime,
  2. Primigum,
  3. Dinost,

Prize -

यह सभी दवा आपको मार्केट में लगभग ₹250 से लेकर ₹300 तक आसानी से मिल जाएगी,

Dinoprostone gel के प्रमुख उपयोग क्या है ?

यदि किसी महिला ने प्रसव के दौरान बच्चेदानी का मुंह नहीं खुल रहा हो या सरनेक सॉफ्ट नहीं हो रहा हो तो ऐसे में इन सभी स्थितियों को नार्मल करने के लिए डॉक्टरों द्वारा इस जेल का प्रयोग किया जाता है जिससे बच्चे की नार्मल डिलीवरी आसानी से हो सके । इसके अलावा यदि कोई महिला जिसे किसी मेडिकल कंडीशन के कारण अचानक अबॉर्शन कराने की जरूरत पड़ जाए तो ऐसे में भी Dinoprostone gel का उपयोग किया जाता है ।

उपयोग कैसे किया जाता है ?

इस जेल को डायरेक्ट योनि में ही इंजेक्ट की जाती है । इंजेक्ट करने से पहले सर्वप्रथम इस दवा को फ्रीजिंग टेंपरेचर से रूम टेंपरेचर में लाया जाता है जिसके लिए इसे उपयोग में लाए जाने से पहले 30 मिनट पहले रूम टेंपरेचर में छोड़ देते है फिर उसके बाद उपयोग में लाया जाता है । दवा को योनि में इंजेक्ट करने का कार्य किसी डॉक्टर या विशेषज्ञ के द्वारा ही कराना चाहिए क्योंकि इस दवा को सीधा योनि के अंदर लगाया जाता है तो ऐसे में इसकी सटीकता सही होनी चाहिए । इसे लगाने के बाद मरीज को कम से कम 15 से 20 मिनट तक लेटे रहने की सलाह दी जाती है जिससे दवा अंदर सही से जाए और बाहर ना निकल पाए ।

इस दवा को लगाने के बाद इसका असर दिखने में कम से कम 3 से 6 घंटे का समय लग सकता है । यदि किसी मरीज में इसका असर नहीं दिख रहा है तो दूसरी डोस अन्य दूसरे जेल का दी जाती है । यह दवा एक मरीज में 3 बार तक दी जा सकती है, इससे अधिक बार उपयोग में लाए जाने पर इसके साइड इफेक्ट भी देखने को मिल सकते हैं ।

 सावधानियां - 

यदि कोई मरीज जिसे जेनेटिकल हरफेजियल या प्लेसेन्टा प्रिनिया की बीमारी है जिस कारण उन्हें नॉर्मल प्रसव होने में बाधा हो तो उन्हें यह जेल नहीं दी जाती है ।

इसके क्या-क्या साइड इफेक्ट देखने को मिल सकते हैं ?

1. महिला मरीज को जननांगों में गर्म जैसा महसूस हो सकता है,

2. इसके अलावा पेट दर्द, पेट में मरोड़, सिर चकराना, सिर दर्द डायरिया होना, दिल की धड़कन का बढ़ जाना जैसे अन्य साइड इफेक्ट भी देखने को मिल सकते हैं ।

Post a Comment

Previous Post Next Post