टेलीविज़न अंधेरे में तथा नजदीक बैठकर क्यों नहीं देखना चाहिए ? Why shouldn't television be seen in the dark and sitting close by?

टेलीविज़न अंधेरे में तथा नजदीक बैठकर क्यों नहीं देखना चाहिए ?

टेलीविज़न अंधेरे में तथा नजदीक बैठकर क्यों नहीं देखना चाहिए ? Why shouldn't television be seen in the dark and sitting close by?
Boy watch TV in  ( near and dark place )

कुछ लोग टेलीविज़न देखते समय कमरे के सभी दरवाजे , खिड़कियां और बत्तियां बंद कर लेते हैं , जिससे कमरे में अंधेरा हो जाता है । इन लोगों का विचार है कि अंधेरे में टेलीविजन के पर्दे पर आने वाले चित्र अधिक स्पष्ट दिखाई देते हैं , लेकिन लोगों की यह धारणा एकदम गलत है । 

वास्तविकता यह है कि हमारी आंखें प्रकाश की उपस्थिति में किसी वस्तु को अधिक स्पष्ट देख सकती है , इसलिए टेलीविज़न देखते समय कमरे में हल्का प्रकाश होना जरूरी है । "हां" इस बात को ध्यान में रखना आवश्यक है कि प्रकाश की किरणें सीधी टेलीविज़न के पर्दे पर नहीं पड़नी चाहिए । 

अंधेरे कमरे में टेलीविज़न देखने से दो हानिकारक प्रभाव होते हैं । अंधेरे में टेलीविज़न के पर्दे से आने वाले प्रकाश के कारण आंखें चकाचौंध होने लगती हैं । टेलीविज़न के बहुत पास बैठने पर यह चकाचौंध और भी अधिक हो जाती है , जिससे आंखों पर बुरा प्रभाव पड़ता है । हो सकता सिर दर्द एवम अन्य मानसिक बीमारी भी उत्तपन्न हो सकती है ।

टेलीविज़न अंधेरे में तथा नजदीक बैठकर क्यों नहीं देखना चाहिए ? Why shouldn't television be seen in the dark and sitting close by?
Watch tv in proper distance.

अंधेरे कमरे में टेलीविज़न देखने से उसके पर्दे( display ) पर हिलते हुए चित्रों( images ) में रोशनी के उतार - चढ़ाव बहुत अधिक स्पष्ट दिखते हैं , जिससे आंखों को अधिक थकान महसूस होने लगती है । हल्के प्रकाश में टेलीविज़न देखने से आंखें काफी देर तक नहीं थकतीं , किन्तु अंधेरे कमरे में आंखें थोड़ी ही देर में थक जाती हैं ।

इन सब हानियों को ध्यान में रखते हुए यह आवश्यक है कि टेलीविजन देखते समय हमें कमरे में हल्का प्रकाश अवश्य रखना चाहिए । आंखों को हानिकारक प्रभावों से बचाने के लिए हमें टेलीविज़न से 3-4 मी . ( 10 से 12 फुट ) की दूरी पर बैठना चाहिए । 

टेलीविज़न की ऊंचाई कम से कम चार फुट होनी चाहिए ताकि कार्यक्रम देखते समय आंखों को नीचे की ओर झुकाना न पड़े , ऐसा करने से आंखों को थकान महसूस नहीं होती ।


List of more General Knowledge ( GK ) ~ 

- सभी की उंगलियों के निशान एक से क्यों नहीं होते ?

- हमें सपने क्यों दिखाई देते हैं ?

- मरने के बाद भी आदमी के बाल क्यों बढ़ते रहते हैं ?

- मुर्दा पानी पर क्यों तैरता है ?

- एक्यूपंक्चर ( Acupuncture ) चिकित्सा प्रणाली क्या है?

- टेलीविज़न अंधेरे में तथा नजदीक बैठकर क्यों नहीं देखना चाहिए ?

ऐसे ही अन्य विषयों की रोचक जानकारी के लिए Infarmo.com में विजिट करें ।

Infarmo.com के कुछ प्रमुख पेजेस - 

- कैलोरी ( Calorie ) क्या है और इसे कैसे मापते हैं ? 

- दृष्टि - परीक्षण ( Eye - sight Test ) कैसे किया जाता है ?

- जाड़ों में हमारे हाथ और ओंठ क्यों फट जाते हैं ? 

- वंशानुगत ( Hereditary ) रोग क्या है ? 

- दाद ( Ring - worm ) क्यों हो जाता है ?

- आंख पर चोट लगने से हमें तारे क्यों दिखने लगते हैं ?

- क्या हमारे शरीर में भी कोई घड़ी है ?

- आनुवंशिकी ( Genetics ) क्या है ?

- मेनिंजाइटिस का रोग क्या है ?

- पेसमेकर ( Pacemaker ) हृदय की धड़कन कैसे नियंत्रित करता है ? 

- हमें डकार क्यों आती है ?

- कैट स्कैनर ( Cat Scanner ) क्या है ?

- चेतना क्या है ? 

- शरीर में कोशिकाएं , ऊतक , अंग और तंत्रिका कैसे बनते हैं?  

- क्या हर व्यक्ति के शरीर से एक विशेष गन्ध आती है ?

- दर्द का पता कैसे चलता है ?

- कृत्रिम गर्भाधान ( Artificial Insemination ) क्या है ?

- शरीर के किन अंगों को प्रत्यारोपित ( Transplant ) किया जा सकता है ?

- इन्फ्लुएंजा ( Influenza ) कैसे हो जाता है ?

- हमारे शरीर में खुजली क्यों होती है ? 

- एपेनडिसाइटिस ( Appendicitis ) क्या है ? 

- हमारे शरीर के लिए कौन - से पदार्थ ईंधन का काम करते हैं ?

- इलेक्ट्रोमायोग्राम ( Electromyogram ) क्या होता है ? 

- इलेक्ट्रोरेटिनोग्राम ( Electro - retinogram ) क्या है ?

- पेंक्रिआस ( Pancreas ) शरीर में क्या काम करते हैं ?

- फ्ल्यूराइड ( Fluoride ) से हमारे दांत कैसे मजबूत हो जाते हैं ?

- अधिक कोलेस्ट्रॉल ( Cholesterol ) क्यों हानिकारक है ?

- क्या मनुष्य के शरीर में बिजली पैदा होती है ?

- क्या हम कई बार जन्म लेते हैं ? 

- सन्धिवात ( Arthritis ) रोग क्या है ?


और भी जाने  ~

Human - Body ( Chapter ~ 1 )  

Human - Body ( Chapter ~ 3 ) 

Human - Body ( Chapter ~ 4 )  


Previous
Next Post »