जीभ स्वाद कैसे बताती है ? How does the tongue convey taste?

 जीभ स्वाद कैसे बताती है ? 

जीभ स्वाद कैसे बताती है ? How does the tongue convey taste?
The Tongue, by - OpenStax


मनुष्य के पास ज्ञान प्राप्त करने के लिए पांच ज्ञानेंद्रियां हैं : - आंख , नाक , कान , त्वचा और जीभ । इनमें से जीभ स्वाद का ज्ञान कराती है ।

जीभ मुंह के भीतर स्थित है । यह पीछे की ओर चौड़ी और आगे की ओर पतली होती है । यह मांसपेशियों की बनी होती है । इसका रंग लाल होता है । 

इसकी ऊपरी सतह को देखने पर हमें कुछ दानेदार उभार दिखाई देते हैं , जिन्हें स्वाद कलिकाएं कहते हैं । ये स्वाद कलिकाएं कोशिकाओं से बनी हैं । इनके ऊपरी सिरे से बाल के समान तन्तु निकले होते हैं । 

ये स्वाद कलिकाएं चार प्रकार की होती हैं , जिनके द्वारा हमें चार प्रकार के मुख्य स्वादों का पता चलता है । मीठा , कड़वा , खट्टा और नमकीन . जीभ का आगे का भाग मीठे और नमकीन स्वाद का अनुभव कराता है । 

पीछे का भाग कड़वे स्वाद का और किनारे का भाग खट्टे स्वाद का अनुभव कराता है । जीभ का मध्य भाग किसी भी प्रकार के स्वाद का अनुभव नहीं कराता , क्योंकि इस स्थान पर स्वाद कलिकाओं का अभाव रहता है । 

स्वाद का पता भोजन की तरल अवस्था में ही चलता है । भोजन का कुछ अंश लार में घुल जाता है । लार में घुला हुआ यह भोजन स्वाद - कलिकाओं को क्रियाशील कर देता है । 

खाद्य पदार्थों द्वारा एक रासायनिक क्रिया होती है , जिसके फलस्वरूप तन्त्रिका आवेग ( Nerve Impulses ) पैदा हो जाते हैं । ये आवेग मस्तिष्क के स्वाद केन्द्र तक पहुंचते हैं और स्वाद का अनुभव देने लगते हैं . 

जीभ स्वाद कैसे बताती है ? How does the tongue convey taste?
Tongue to brain connection,


किसी खाद्य - पदार्थ के पूरे स्वाद के लिए जीभ के अलावा अन्य ज्ञानेंद्रियां भी सहयोग देती हैं । गंध भी स्वाद का एक अंग है , जिसका अनुभव नाक से होता है । यही कारण है कि जुकाम हो जाने से भोजन का पूरा - पूरा स्वाद नहीं मिल पाता और वह फीका - फीका लगता है । 

एक बालक की अपेक्षा एक प्रौढ़ ( Adult ) की जीभ पर स्वाद कलिकाओं की संख्या अधिक होती है । प्रौढ़ व्यक्ति की जीभ पर लगभग 3000 स्वाद कलिकाएं होती हैं । आयु के बढ़ने के साथ स्वाद कलिकाएं शिथिल होने लगती हैं और फिर निष्क्रिय होने लगती हैं । एक 70 साल की आयु के आदमी की जीभ पर कुल 800 स्वाद कलिकाएं शेष रह जाती हैं ।

पेट की खराबी या कब्ज से जीभ पर मैल जम जाता है , जिससे हमें वस्तुओं का स्वाद बदला - बदला लगता है । वास्तव में जीभ पर मैल जम जाने के कारण खाद्य पदार्थों के अणु स्वाद कलिकाओं तक आसानी से पहुंच नहीं पाते , इसलिए हमें खाद्य पदार्थों का स्वाद बदला - बदला लगता है । 

बुखार आने पर या गर्म वस्तु खाने - पीने से भी ये स्वाद कलिकाएं कुछ शिथिल या निष्क्रिय हो जाती हैं और फलस्वरूप भोजन का पूरा - पूरा स्वाद हमें नहीं मिल पाता ।

शराब , कोको और फलों के रस का पता उनकी गंध से ही चलता है । जब ये रस मुँह में जाते हैं , तो उनके स्वाद का पता जीभ को लग जाता है और गन्ध नाक के पिछले भाग में चली जाती है । वहां से इसकी सूचना गन्ध तन्त्रिकाओं द्वारा मस्तिष्क को मिल जाती है । इस प्रकार स्वाद का पूरा आनन्द मिल जाता है ।


List of General Knowledge ( GK ) ~

- आदमी बूढ़ा क्यों होता है ? 

- ऐन्टीबायोटिक्स ( Antibiotics ) क्या हैं ?

- विटामिन हमारे लिए क्यों जरूरी हैं ?

- फफूंदी ( Fungus ) क्या होती है ? 

- विषाणु ( Virus ) क्या हैं ? 

- क्या पृथ्वी पर दैत्याकार मनुष्य भी रहते हैं ?

- मलेरिया कैसे होता है ?

- आक्सीजन गैस हमारे लिए किस प्रकार उपयोगी है ?

- गर्म चीजों के छूने से जलन क्यों हो जाती है ?

- लोग गंजे क्यों होते हैं ? 

- सीखना व याद करना क्या है ?

- लोग बौने क्यों होते हैं ?

- लोग बेहोश क्यों होते हैं ?

- नींद में हमारे शरीर में क्या होता है ?

- बिना खाये कितने दिन रहा जा सकता है ?

- सम्मोहन क्या है ? 

- व्यक्ति की याददाश्त क्यों चली जाती है ? 

- प्लास्टिक सर्जरी क्या है ? 

- जीभ स्वाद कैसे बताती है ?


और भी जाने ~

Human - Body ( Chapter ~ 1 ) 

Human - Body ( Chapter ~ 2 ) 

Human - Body ( Chapter ~ 3 )  

Post a Comment

Previous Post Next Post