कार्नियल अल्सर / आँख का व्रण | [ Corneal Ulcer ] रोग के नाम , परिचय , कारण , लक्षण , चिकित्सा व्यवस्था ? Corneal ulcer / eye ulcer. [Corneal Ulcer] Name, intro, cause, symptoms, medical system of disease?

कार्नियल अल्सर / आँख का व्रण | [ Corneal Ulcer ] 

कार्नियल अल्सर / आँख का व्रण | [ Corneal Ulcer ]  रोग के नाम , परिचय , कारण , लक्षण , चिकित्सा व्यवस्था ? Corneal ulcer / eye ulcer. [Corneal Ulcer] Name, intro, cause, symptoms, medical system of disease?
corneal ulcer


नाम - स्वच्छ मण्डल के घाव । इसे Suppurative Keratitis भी कहते हैं । 

परिचय - इस रोग में स्वच्छपटल ( Cornea ) पर घाव हो जाता है जिससे उसकी पारदर्शकता नष्ट हो जाती है जिससे रोगी दृष्टिविहीन हो जाता है । 
• It means loss of corneal substance as a result of infection and formation of a Taw , excavated area .


रोग के प्रमुख कारण -

• रोहे ( Trachoma ) का नेत्र श्लेष्म कलाशोथ ( Conjunctivitis ) की उचित चिकित्सा न करने से । → 

• नेत्र में चोट लगना ( Ocular injuries ) 

• चेचक अथवा खसरा ( मिजिल्स ) के दानों का स्वच्छू पटल पर उभर आना । । 

• अश्रुकोश का शोथ । । । 

• स्वच्छ पटल मृदुता ( Keratoma lacia ) 

• मनुष्य के अधिक बीमार रहने से जब वह अर्धचेतन्य अवस्था में रहता है और पलक पूर्ण रूप से बन्द नहीं हो पाते हैं । जिससे स्वच्छ पटल के नीचे वाला भाग खुला रह जाता है जिससे उस पर घाव बन जाता है । 

• फेसियल नर्वस के पक्षाग्रस्त होने पर ।


रोग के प्रमुख लक्षण -



• नेत्र में पीड़ा ( Pain in the eye ) । 

• नेत्र से पानी बहना ( Lacrimation ) । 

• धूप में उनका न खुलना ( Photoph obia ) । → 

• पलकों का जोर से बन्द रहना ( Blep harospasm ) । 

• शिरःशूल ( Headache ) एवं Blurr ing of vision . → 

• दृष्टि का क्षीण होना । । 

• साधारणतः दिन में कितनी ही बार स्वच्छपटल पर छोटे - छोटे घाव होते हैं , किन्तु वे शीघ्र भर जाते हैं । यदि इन घावों में जीवाणु प्रवेश कर जाते हैं । अथवा स्वच्छपटल की अपनी स्वाभाविक रक्षाक्षमता नष्ट हो जाती है । तो इसका अग्रिम भाग गलकर नष्ट हो जाता है जिससे स्वच्छ पटल खुरदरा एवं मटमैला हो जाता है ।



कार्नियल अल्सर की नैदानिक अनिवार्यतायें एक दृष्टि में -

• आँखों में भयंकर पीड़ा ,

• फोटोफोबिया ,

• आँख से पानी का अविरल बढ़ना ।  

• अल्सर में छिद्र होने की प्रवृत्ति अथवा घाव फट जाता है ।

• फ्लूरोसिन आई ड्राप्स डालने से घाव के तल में शीघ्र ही दाग पड़ जाता है। • रंजक अर्थात् डाई के द्वारा अल्सर के किनारों के आस - पास इन्फिल्ट्रेशन हो जाता है । 


कोर्नियल अल्सर की चिकित्सा व्यवस्था -

• पैड एवं बैण्डेज के द्वारा आक्षिगोलक ( Eye Ball ) की रक्षा आवश्यक । 

• सोफामाइसीन ड्रॉप्स या आई आयन्टमेण्टहर2 - 2 घण्टे बाद । 

• एट्रोपीन आई ड्रॉप्स या आयन्टमेण्ट - हर 2 - 2 घण्टे पर । 

• वायरल अल्सर ( हपज सिम्पलैक्स ) हो तो – रिडीनौक्स आई ड्राप डालें । 
• कभी - कभी लोकल कॉटराइजेशन आवश्यक । 

• सेप्ट्रान या आइबू - प्रोफेन ।


विशिष्ट व्यवस्थापत्र -

Rx 

• निओप्पोरिन आई ड्रॉप्स ( Neosporin Eye drops )  -  हर 2 घण्टे पर 7 दिन तक ।

• गैरामाइसीन आई ड्रॉप्स ( Garramycin Eye drops )  -  हर 2 - 2 घण्टे पर x 7 दिन तक । 

• सोफामाइसिन आई आयन्टमेंट  -  दिन में 2 बार x 7 दिन तक ।  

• बैक्ट्रिम डी . एस . 2 . ( Bactrim D . S . )  -  1 टि . दिन में 3 बार x 5 दिन तक  । 

• एट्रोपीन आई ड्रॉप्स  -  दिन में 2 बार x 5 दिन तक । 

•• जितना शीघ्र हो सके केश को किसी नेत्र चिकित्सालय में भर्ती करा देना चाहिये । 


•• कोर्नियल अल्सर की विस्तृत चिकित्सा इस प्रकार से भी -

A . स्थानीय ( Local ) चिकित्सा -

1 . इन्फेक्शन कंट्रोल के Rx लिये - • क्रिस्टेलाइन पेनिसिलीन 2.500 यूनिट + 0 . 5 ग्राम स्ट्रेप्टोमाइसीन सल्फेट 1 मि . ली . डिस्टिल्ड वाटर में घोलकर प्रति घण्टे पर डालें । एवं ।

• रात को सोते समय कोई ब्राड स्पेक्ट्रम एण्टीबायोटिक आयण्ट मेण्ट ।

•• यदि इस चिकित्सा से भी अल्सर बढ़ता रहे तो - थर्मोकाटरी अथवा  कार्बोलिक एसिड से जलावें 

2 . आँख के लिये विश्राम ( Rest to the Eye )एट्रोपीन आयन्टमेण्ट 1 % दिन में 2 बार लगावें । 

• डार्क ग्लासिस ( गहरे रंग के चश्मे ) अथवा शेड ( Shade ), पर आँख पर पट्टी न बाँधे । 

3 . दर्द निवारण के लिये → एनाल्जेसिक एवं गर्म सेक ( Analgesic & Hot Compress ) कोकेन ड्राप भूलकर भी प्रयोग न करें । इससे अल्सर बढ़ता है । 

4 . यदि पास में कोई सेप्टिक फोकस हो तो  -  ले क्रीमल सेक ( Lacrimal Sac ) का बराबर निरीक्षण करें । यदि Chronic Dacryocystis उपस्थित हो तो बिना किसी विलम्ब के सेक ( Sac ) को हटा दें । ।

B . जनरल चिकित्सा -

• शारीरिक रसिस्टेन्स बढाने के लिये । मिल्क इन्जेक्शन 5 मि . ली . माँसपेशी में सप्ताह में 2 बार । 4 सप्ताह तक । 

• विटामिन ए और सी मुख द्वारा ।

सावधान - • स्टेराइड्स का प्रयोग न करें । 
• कोकेन ड्रॉप्स का प्रयोग वर्जित । । 
• पट्टी ( bandage ) का प्रयोग न करें ।


•• स्वच्छ पटल के घाव की विकृतियाँ -

सफेद फुल्ली ( Cornealopacity ) - जब स्वच्छपटल ( Cornea ) का घाव गहरा होता है तो उसके भरने के लिये नई बनी हुई तहें पारदर्शक नहीं होती और वह स्वच्छपटल पर सफेद फुल्ला छोड़ देती हैं । 

• यह फुल्ली यदि तारा ( Pupil ) के ठीक सामने होती है तो यह प्रकाश की किरणों को अंदर जाने से रोक देती है और इससे दृष्टि नहीं के बराबर रह जाती है । । 

• कुछ रोगियों में कार्निया का फुल्ली वाला भाग दुर्बल होता है और सामान्य नेत्र के दबाव ( तनाव ) से ही यह बाहर की ओर उभर आता है । अंत में रोगी इसके बढ़ने से कुरूप लगने लगता है ।

फुल्ली की चिकित्सा - इस प्रकार से -

• बाल अवस्था में यदि फुल्ली हल्की हो तो यह डायोनीन ( Eye mide dionine 2 % ) का मरहम के दिन में 2 बार 3 – 6 माह तक लगाने से काफी कट जाती है । यदि इससे सफलता न मिले तो इसे काला ( Tatooing ) किया जा सकता है । इससे कुरूपता चली जाती है पर दृष्टि में कोई विशेष लाभ नहीं होता है । । 

• जब फुल्ली तारा के ठीक ऊपर हो और नेत्र में ज्योति बहुत कम हो तो उसका उपचार ऑपरेशन द्वारा करना चाहिये । इस चिकित्सा में फुल्ली वाला कार्निया का भाग काटकर निकाल दिया जाता है और किसी मृत व्यक्ति के कार्निया का इसी आकार का भाग काटकर लगा दिया जाता है । नोट - ० जिसकी आँख उसकी मृत्यु के चार घंटे के अन्दर निकाल ली जाती है ।

याद रखिये - सफेद फुल्ली ( Corneal Opacity ) को नाखूना , फोला आदि से भी जाना जाता है । । 

ल्यूकोमा ( Leucoma ) - इसे ' जाला ' या ' माडा ' भी कहते हैं । यह भी ओपेसिटी आफ कार्निया ( Opacity of Cornea ) ही है । इसे नेवुला , मेकुला अथवा ल्यूकोमा से भी जाना जाता है । यह कार्निया के एक छोटे भाग को अथवा पूरे भाग को आक्रान्त करती है । यह कार्निया के आघातिक टिशू पर निर्भर करता है । 

• ल्यूकोमा के अधिक समय तक रहने से ' एथीरोमेटस अल्सर विकास कर जाता है । 

लक्षण -  • यदि Pupillary area के बाहर ‘ ओपेसिटी है तो कोई लक्षण नहीं।

• यदि Pupillary area के अन्तर्गत है तो Visual disturbance होता है । 

चिकित्सा - • यदि ल्यूकोमा ( माड़ा ) छोटा है तो कोई चिकित्सा की आवश्यकता नहीं । केवल Cosmetic treatment निम्न अनुसार प्रयोग में लाया जा सकता है । 

कोसमेटिक चिकित्सा ( Cosmetic Treatment ) - इस चिकित्सा में निम्न प्रकार से ( in the following way ) कार्निया को केमेकल्स के द्वारा काला किया जा सकता है । 

1 . लोकल अनस्थीसिया ( अमीथोकेन हाइड्रोक्लोराइड 0 . 5 % ड्रॉप्स ) के बाद ल्यूकोमा के ऊपर का इपीथेलियम को केटारेक्ट नाइफ से खुरचकर । । 

2 . तीन केमिकल्स यथा 2 % गोल्ड क्लोराइड , 2 % प्लेटीनम क्लोराइड एवं 2 % हाइड्राजीन हाइड्रेट सोल्यूशन को Raw Area पर एक के बाद एक स्वाव स्टिक से तब तक लगाया जाता है जब तक कि सफेद ( Opacity ) काला रंग नहीं पकड़ लेती ।

3 . अतिरिक्त केमिकल्स को धोकर साफकर दिया जाता है और एट्रापीन तथा एण्टीबायोटिक आयण्टमेण्ट को लगाकर 48 घण्टे के लिये पट्टी बाँध दी जाती है । 

नोट -  • काला रंग ( Black Colouration ) 2 साल तक चलता है । 

 पर्याप्त रोशनी लाने के लिये - - ' केराटोप्लास्टी अथवा कार्नियल ग्राफ्ट तथा ओप्टिकल इरोडेक्टोमी की जाती है ।

Newest
Previous
Next Post »