"एक्सरसाइज करें ताकि आसानी से सांस ले सकें""Exercise so that you can breathe easily" "Cranic obstructive pulmonary discourse"

"एक्सरसाइज करें ताकि आसानी से सांस ले सकें""Exercise so that you can breathe easily" "Cranic obstructive pulmonary discourse"
Exercise


" क्रानिक आब्स्टरेक्टिव पल्मोनरी डिसोज "


फेफड़ों में अवरोध की असाध्य बीमारी ( सीओपीडी ) से आप जूझ रहे हों और किसी भी तरह की कसरत नहीं कर रहे हों तो बीमारी और बढ़ेगी । कमजोर मांसपेशियों को अधिक ऑक्सीजन की जरूरत होती है इसलिए कसरत करें ताकि आप आसानी से सांस ले सकें । कसरत शुरू करने से पहले चिकित्सक की सलाह जरूर ले लें ।


"एक्सरसाइज करें ताकि आसानी से सांस ले सकें"

कसरत करने से सब कुछ बदलने लगता है । मांसपेशियां मजबूत होने लगती हैं और रोजमर्रा का काम करना आपके लिए आसान हो जाता है । यह याद रखें कि फेफड़ों में अवरोध की असाध्य बीमारी के मरीज भी कसरत कर सकते हैं । पैदल चलना एक बहुत काम की एक्सरसाइज है । खासतौर पर तब जब आप शारीरिक गतिविधियों की शुरुआत कर रहे हों । पैदल चलने की कसरत कहीं भी की जा सकती है । पार्किंग में दूर वाहन खड़ा करें , बाहर निकलें और मॉल तक पैदल जाएं । घर में रहें तो ट्रेडमिल पर चलें हो सकता है कि आपके लिए यह सब भारी साबित हो लेकिन छोटी सी शुरुआत करें । चंद मिनट का समय लगाएं और 10 कदम रोज चलना शुरू करें । धीमी गति से ही चलें और सांस को उखड़ने न दें ।


स्टेशनरी साइकल -


सीओपीडी के मरीजों के लिए स्टेशनरी बाइक बहुत फायदेमंद साबित होती है । जिम अथवा रिहैबिलिटेशन सेंटर में अन्य मरीजों के साथ स्टेशनरी साइकल चलाने का मौका मिलता है । अपनी शारीरिक क्षमता के मुताबिक साइकल चलाने की अवधि तय करें । जब शरीर थोड़ा दम पकड़ ले तब बाहर निकलकर आसपास ही कहीं साधारण साइकल चला लें । यदि किसी भी कसरत को करने से सांस उखड़ने की शिकायत हो तो तुरंत बंद कर दें । और चिकित्सक को दिखाएं ।


पैरों को भी शामिल करे कसरत के रूटीन में -

पैर मजबूत होंगे तो ही आसानी से पैदल भी चल पाएंगे । पिंडलियों की कसरत के लिए । एक कुर्सी के पीछे खड़े हो जाएं और उसकी पुश्त पर दोनों हाथ टिका लें । अब शरीर को संतुलित करते हुए दोनों एड़ियों को ऊपर खींचें । ऐसा करने से पंजे जमीन पर रहेंगे और पिंडली की मांसपेशी की कसरत हो जाएगी । कुछ देर तक इसी अवस्था में रहें और फिर सांस छोड़ते हुए । वापस एड़ी जमीन पर टिका लें । इस कसरत को 10 से 15 के सेट में करें ।


बैठे हुए अथवा खड़े होकर हल्का वजन उठाए -

मांसपेशियों में ताकत भरने के लिए एक लीटर पानी की बोतल अथवा एक - एक किलो की नमक की थैली दोनों हाथों में लेकर कंधों की सीध में उठा लें । अब कलाइयों के दम पर हथेलियों को दोनों ओर घुमाएं । यह एक्सरसाइज 10 - 10 के सेट में करें । थक जाएं तो विश्राम कर लें । इसी तरह वजन को सिर से ऊपर उठाने वाली कसरत भी कर लें । हाथों को सिर के ऊपर ले जाते समय सांस भरें और सांस छोड़ते हुए हाथ नीचे ले आएं इससे मांसपेशियों में ऑक्सीजनयुक्त खून प्रवाहित होगा और वे मजबूत होंगी ।


पिंडली को भी करें मजबूत -


जांघों की मांसपेशियों को मजबूत बनाने के लिए एक कुर्सी पर बैठ जाएं और दोनों पैर जमीन पर टिका लें । अब एक पैर को सीधे ऊपर की ओर उठाएं । पंजे की ओर देखते हुए उसे अपनी ओर खींचने का प्रयत्न करें । ऐसा करने से जांच की मांसपेशी पर जबरदस्त खिंचाव आएगा । थोड़ी देर तक रुके और पैर जमीन पर ले आएं । ऐसा दूसरे पैर के साथ भी करें । एक पैर से कसरत करने के बाद दोनों पैरों को एक साथ ऊपर उठाने की कसरत भी कर सकते हैं । इसे 10 - 15 के सेट में लगाएं ।

Previous
Next Post »