मसूड़ों का कैंसर [ Cancer of Gums ] होने के प्रमुख कारण , लक्षण , एव निदान ? The main cause of symptoms of cancer of gums, symptoms, and diagnosis?

मसूड़ों का कैंसर [ Cancer of Gums ] 

मसूड़ों का कैंसर [ Cancer of Gums ] होने के प्रमुख कारण ,  लक्षण , एव निदान ? The main cause of symptoms of cancer of gums, symptoms, and diagnosis?


परिचय → मसूड़ों के कैंसर में निचले मसूड़ों का कैंसर ऊपरी मसूड़ों की तुलना में अधिक होता है । यह कैंसर वृद्धावस्था में अधिक होता है । साथ ही कैंसर के प्रारम्भिक लक्षणों में भोजन चबाते समय मसूड़ों से रक्तस्राव होता है ।

कैंसर के प्रमुख कारण 

• 40 वर्ष से कम की अवस्था के व्यक्तियों में बहुत कम । 

• कृत्रिम दाँतों का मसूड़ों में ठीक से फिट न होना । जिसके कारण उत्पन्न | व्रण ( Ulcer ) से । 

• दाँतों में कीड़े लगना । । 

• सिफिलिस ( Syphilis ) । । 

• तम्बाकू का चूसने के रूप में अधिक सेवन । । 

• सुंघनी का अत्यधिक प्रयोग ।


कैंसर के प्रमुख लक्षण 

• प्रारम्भिक लक्षणों में भोजन चबाते समय रक्त स्राव । । 

• कृत्रिम दाँतों के फिट होने में बाधा । । 

• मसूड़ों में विशेषकर पीछे के दाँतों के मसूड़ों में तथा दाँतों के चारों तरफ व्रण दिखायी देना । 

• ओटाल्जिया , हनु स्तम्भ , रक्तस्राव , तीव्र शूल इत्यादि लक्षण । 

• कैंसर के प्रसारित होने पर गर्दन की लसंग्रन्थियाँ सूज जाती हैं ।


• परीक्षा करने पर रुग्ण मसूड़े रबर के समान फूले दिखायी देते हैं । जो क्रमशः मसूड़ों के सम्पूर्ण भाग को आक्रान्त कर देते हैं । 

• अत्यधिक रक्तस्राव , ब्रान्कोन्यूमोनिया आदि उपद्रवों के परिणामस्वरूप रोगी की मृत्यु । । 


निदान ( Diagnosis ) 

• मसूड़ों के कैंसर का निदान मसूड़ों की विधिवत् परीक्षा । पूर्व इतिहास जिसमें दाँतों में कीड़े लगना , दाँतों के उखाडने के उपरान्त उत्पन्न उपद्रव , मसूड़ों की हाथ से परीक्षा , बायोस्पी । परीक्षा , मेण्डीबल एवं मेक्जीला की X - Ray परीक्षा आदि के आधार पर ।


मसूड़ों के कैंसर की चिकित्सा 

1 . विकिरण चिकित्सा ( Radiotherapy ) - प्रारम्भिक अवस्था में वाह्य विकिरण चिकित्सा ( ExternalX - Ray treatment ) । 

2 . क्यूरी चिकित्सा ( Curietherapy ) - कैंसर का आकार सूक्ष्म होने पर । 

3 . शल्य चिकित्सा ( Surgical Treatment )• जब कैंसर मसूड़े तक ही सीमित रहता है । 

• कैंसर के अधिक प्रसारित होने पर मेडिबुल को निकालकर उस स्थान पर बोन ग्राफ्टिग की जाती है । 

• यदि कैंसर स्थानिक लसिका ग्रन्थियों तक प्रसारित होता है तब ऑपरेशन से मेंडिबुल के साथ - साथ लिम्फ ग्लेण्ड्स तक को निकाल दिया जाता है । 

• ऊपरी मसूड़ों के कैंसर में जब मैक्जीला तथा कठोर तालु अक्रान्त हो जाते । हैं तब उक्त दोनों भागों को काटकर निकाल दिया जाता है ।


याद रहे → यह शल्य क्रिया मुख मार्ग से भी की जा सकती है ।

→ शल्य चिकित्सा के बाद हाई वोल्टेज के X - Ray तथा कोबाल्ट चिकित्सा की जाती है । जिससे रोग आगे प्रसारित न हो ।

Previous
Next Post »