अग्निमांद्य [ Dyspepsia ] क्या है ? और इसके रोकथाम के लिए क्या - क्या कर सकते है ? What is dyspepsia? And what can you do to prevent it?

अग्निमांद्य [ Dyspepsia ]



पर्याय - 
मन्दाग्नि  साधारण बोलचाल में इसे ' भूख न लगना ' कहते हैं ।

परिचय -
अग्निमांद्य में अग्नि मंद पड़ जाती है जिससे आहार का पाचन भली भाँति न होकर नाना प्रकार की आमज व्याधियाँ हो जाती है , जिसके कारण भूख नहीं लगती है । अल्प मात्रा में लिया भोजन भी बहुत देर से पचता है । साथ ही उदर एवं सिर में भारीपन , कास - श्वास , लालास्राव , अंगों में वेदना आदि लक्षण होते हैं ।
लालास्राव अंगों में वेदना आदि लक्षण होते,

रोग के सामान्य कारण >> 

-  परस्पर विरुद्ध आहार

-  पूर्व में किये गये भोजन के बिना पचे पुनः  भोजन करना ।

-  अजीर्ण होने पर भी भोजन करना ।

-  आटे या बेसन की बनी वस्तुओं का अधिकांश प्रयोग ।

-  अपक्व भोजन करना ।

-  दिन में भोजन के बाद नित्य सोना ।

-  द्रव पदार्थों का अधिक सेवन । ।

-  मद्य , दूध , गुरु एवं अभिष्यन्दी पदार्थों का अति सेवन । ।

-  अति उष्ण , अति स्निग्ध , अति सूक्ष्म , अति खट्टे द्रव पदार्थों का सेवन । |

-  भोजन के बाद अथवा भोजन के बीच में जल पीने का अभ्यास ।

-  तेज चाय ( Strong tea ) एवं कॉफी का अधिक मात्रा में सेवन । ।

-  भोजन के घण्टों में अनियमितता ।

-  जल्दी - जल्दी खाना ( Hurried eating )

-  अधिक बीड़ी - सिगरेट अथवा मद्य का | सेवन ।

-  गर्भावस्था , भोजन के प्रति एलर्जी । ।

रोग के विशिष्ट कारण >>

-  यदि ग्रासनली ( Oesophagus ) , आमाशय या गृहणी ( Duodenum ) आदि की बनावट जन्म से ही विकृतमय हो अथवा इनमें कहीं पर अबु ' द हो जायें । मध्यपेशी का हर्निया हो । आमाशय शोथ , पेप्टिक व्रण या आमाशय कैंसर हो ।

-  आन्त्रपुच्छ शोथ , पित्ताशय शोथ , अग्न्याशय शोथ , एमीबिएसिस , संग्रहणी ( Sprue ) , आन्त्रकृमि विशेषकर जियार्डियासिस आदि रोगों के परावर्त ( Reflex ) से । ।

-  हृत्पात , फेफड़े का यक्ष्मा , रक्त की कमी , एडिशन रोग सुप्रारीनल ग्रन्थि का विकार ) , यूरीमियाँ एवं अतिपरावटुता । ( Hyper parathyroidism ) से भी रोग की सम्भावना । ।

-  परगेटिव , एस्प्रिन , सैलीसिलेट्स आदि का अधिक सेवन । ।

यद्यपि अग्निमांद्य बहुत पाया जाने वाला साधारण विकार है । पर कोई ऐसा व्यक्ति नहीं जिसे अग्निमांद्य रोग न होता हो । यद्यपि यह अनेक महत्वपूर्ण व्याधियों का परिचायक भी है । अतः इसके कारणों का भली प्रकार ज्ञान प्राप्त करना नितान्त आवश्यक है । ।

• चाय में ' टैनिन ' नामक एक पदार्थ रहता है । अतएव चाय का अधिक सेवन जठराग्नि को मन्द बनाता है । जिससे भूख मारी जाती है ।

प्रमुख कारण एक दृष्टि में  >>

-  पाचन संस्थान के आर्गेनिक रोग - 

- पित्ताशय रोग ( Pancreatic disease )
- क्रोहन्स रोग ( Crohn ' s disease )

- सिस्टेमिक डिजीज - 

हृदय , वृक्क अथवा यकृत पात ( Cardiac , Renal or Hepatic Failure )

- औषधीय ( Medication ) - 

- नॉन - स्टेरॉइडल - एण्टी - इन्फ्ले मेटरी औषधियाँ
- डिजोक्सिन ( Digoxin )
- पीड़ा निवारक ( Analgesic )
- एण्टीबायोटिक्स ( Antibiotics )

- मद्य ( Alcohol ) - 

- गर्भावस्था Pregnancy ) - 


- मनोविकार जन्य रोग ( Psychiatric disorders ) , अवसादक विकार ( Depressive illness )-


नोट - चिन्ता विक्षिप्त ( Anxiety neurosis ) भी एक प्रमुख कारण है ।

याद रखिये - वास्तविक कारण का पता नहीं । सामान्यतया मनोविकार सम्बन्धी । ( Psychological ) , तंत्रिका सम्बन्धी ( Neurological ) एवं Geet Peptide Factor हो सकते हैं । रोगी प्रायः 40 साल की उम्र वाला विशेषकर पुरुष होता है ।

नोट -  दाँतों के रोग विशेषकर ' पायरिया ' भी इसका प्रमुख कारण है । ।

रोग के प्रमुख लक्षण >>

-  उदरशूल , आध्यमान , मलावरोध , अधोवायु की रुकावट , अंगों में जकड़ाहट , अंगमर्द , कंठ एवं मुख का सूखना । ।

-  भूख न लगना , खट्टी डकारें आना , भोजन | के प्रति अरुचि । ।

-  पाश्र्व , उरु तथा वंक्षण में वेदना , कृशता एवं दुर्वलता की प्रतीति ।

-  सिर में चक्कर , तृष्णा की अधिकता | मुख से धुंआ जैसा निकलना , पसीना आना ।

-  शरीर में भारीपन , कपोल एवं नेत्रकूट में शोथ , वमन की इच्छा अथवा वमन होना ।

-  आलस्य , स्तब्धता एवं मैथुन की अनिच्छा । ।

-  प्रातःकालीन लक्षणों में - टहलते समय उदर पीड़ा अथवा मितली ( Nausea की उपस्थिति । ।

-  जिह्वा मलावृत्त एवं मुह से दुर्गन्ध ।

-  मुह में पानी पर आता है । भोजन के बाद अक्सर पेट फूलने की शिकायत रहती है ।


उपद्रव ( Complications ) >>

-  परनीसियस अनीमिया मुख्य उपद्रव है ।

-  रोग पुराना होने पर पेट में गैस बनने लगती है । पेट के स्थान पर अर्थात कौड़ी प्रदेश की हड्डी के नीचे बेचैनी , भारीपन , सुस्ती , थकान , नाड़ी दुर्बलता , स्नायु दौर्बल्य ( न्यूरेस्थेनिया ) तथा | अनिद्रा आदि विकार हो जाते हैं ।

-  रोगी का सिर भारी रहने लगता है । और उसे चक्कर आने लगते हैं ।

 • यह कोई विशेष रोग नहीं है बल्कि एक लक्षण मात्र है जो अनेक रोगों में । दिखायी देता है ।

रोग की पहिचान >>

-  भूख न लगने के साथ - साथ तबियत का गिरा रहना , भोजन के बाद पेट फूलना , मितली , वमन , सिर दर्द आदि लक्षणों से इसे सरलतापूर्वक पहिचाना जा सकता है ।


आवश्यक परीक्षण >>

-  रोग के वास्तविक कारणों को जानने के लिये क्ष - किरण ( X - Ray ) चित्रण नितान्त उपयोगी होते हैं ।

-  इसी प्रकार रक्त , मल - मूत्र , आमाशयक पदार्थ , यकृत कार्य आदि के परीक्षणों की भी आवश्यकता होती है,

रोग निदानात्मक कुछ महत्वपूर्ण बातें >>

-  यदि रोग का आरम्भ सहसा हुआ हो तो ' आन्त्र पुच्छ शोथ , स्तब्धता या शोक चिन्ता आदि कारण हो सकते हैं ।
-  कभी - कभी अजीर्ण के आक्रमण का विवरण मिले तो ' पेप्टिक अल्सर कारण समझना चाहिए । यदि यह आक्रमण कुछ ही दिनों से हो रहे हों तो दुर्दमता ( Malignancy ) संभव है । ।

-  ' पित्ताशय शोथ ' एवं ' जीर्ण आमाशय शोथ में वेदना न होकर बेचैनी महसूस होती है । ॥

-  उदर के अधो भाग की परेशानी आध्यमान ( Flatulance ) हो सकता है ।

-  जीर्ण आमाशय शोध में मितली होती है ।

-  वमन ' का कारण कोई आंगिक ( Organic ) व्याधि हो सकती है ।

-  रक्त वमन हो , तो उसका कारण पेप्टिक अल्सर , कैंसर , आमाशय शोथ एवं यकृत सिरोसिस हो सकते हैं । ।
-  यदि विबन्ध ( Constipation ) रहने लगे तो पेप्टिक अल्सर ' , ' आमाशय कैंसर एवं ' अतिसार ' का कारण अन्त्रशोथ ( colitis ) ।

-  शोक , चिन्ता तथा काले रंग का मल आवे तो आँतों के ऊर्ध्व भाग में कहीं रक्तस्राव का सूचक है ,

-  जीर्ण पित्ताशय शोथ के कारण ' अफारा होता है

मन्दाग्नि में पित्ताशय के विकारों के कारण रोगी प्रायः स्थूल हो जाता है । । जबकि मानसिक विकारों से उत्पन्न अग्निमांद्य में पतला । 

याद रखिये -
चाय - सुपारी , जामुन फल आदि के अधिक सेवन से भूख मारी जाती है ।

चिकित्सा विधि >>

  कारण , लक्षण एवं रोगी की अवस्था विशेष को देखते हुए अग्निमांद्य के रोगी को -

-  यथासम्भव ' दीपन - पाचन ' ( Digestive Stimulant ) एवं कार्मिनेटिव औषधियाँ देनी चाहिए ।

-  दाँत में यदि कोई रोग हो तो उसकी समुचित चिकित्सा करें ।

-  भोजन के समय अधिक पानी पियें । 1 घण्टे बाद 1 गिलास पानी अवश्य पियें ।

-  भोजन में दूध , दही की मात्रा बढ़ा कर दें ।

-  खाने के पश्चात् ब्राण्डी 1 चम्मच को 100 मि . ली , जल में मिलाकर दें । ।

-  मानसिक उत्तेजना से बचायें । ।

-  कभी - कभी उपवास भी आवश्यक है ।

पथ्यापथ्य >>

-  पुराने चावल , अगहनी चावल का भात , मूंग का यूष , बथुआ , पालक , कच्ची नूली , सहिजन , परवल , करेला , लहसुन , नीबू , अदरख , नमक , धनियाँ , मट्ठा , कटु एवं तिक्त रस युक्त द्रव्य पथ्य है ,

-  भोजन करने से पहले अदरख की कतरन , सेंधा नमक के साथ चबाकर खानी चाहिए ।

-  सिरका + अदरख बराबर - बराबर मिलाकर खानी चाहिये । ।

-  भोजन के साथ हरी मिर्च + धनियाँ की पत्ती + पके टमाटर + पतली मुली + नीबू का रस + नमक मिलाकर सलाद बनाकर भोजन के साथ लेने से भोजन में रुचि उत्पन्न होती हैं । 
-  अग्निमांद्य में व्यायाम का अधिक महत्व है । जठराग्नि को प्राप्त करने के लिए व्यायाम एक बहुत उपयोगी प्रतिक्रिया है । 

याद रखिये - 
-  दुर्बल एवं अग्निमांद्य वाले को अग्नि ' को प्राप्त करने के लिये चौबीस घण्टे में एक बार भोजन करना चाहिए । 
-  अग्निमांद्य में उष्ण जल पीना चाहिए । 
-------------------------------------------------------
औषधि चिकित्सा >> 

औषधि चिकित्सा से विशेष लाभ नहीं । पर क्रमबद्धतानुसार इन्हें प्रयोग में लाना चाहिये । प्रत्यम्ल औषधियाँ ( Antacids ) कभी - कभी लाभकर होती हैं,

Rx .

1.  मेटाक्लोप्रामाइड ( Metaclopramide ) 10 मि . ग्रा . x दिन में 3 बार , भोजन से पूर्व ,


अथवा 

     डोमपेरीडोन ( Domperidone ) 10 - 20 मि . ग्रा . - दिन में 3 बार - भोजन से पूर्व । 


2.  पाइरेन्जीपाइन ( Pirenzepine ) 50 मि . ग्रा . , दिन में 2 बारे ।


----------------------------------------------------

विशिष्ट औषधि व्यवस्था पत्र >>

Rx

-  प्रातः सायं - टाका काम्वेक्स कैपसूल ( पी . डी . ) 1 के , , दिन में 2 बार , जल से ।

-  भोजन से पूर्व - लिवोजिन कैप्सूल ( एलनवरीज ) | | कै , भोजन से 1 / 2 घण्टे पूर्व ।

-  भोजन के बाद - डीजीप्लेक्स इलेक्सिर ( Digiplex Elixicr ) । | 2 चम्मच , दिन में 2 या 3 बार ।

-  रात सोते समय - वाडेंज इलेक्सिर ( Bardese Elixier ) ' पी . डी . ' । । 2 चम्मच रात 10 बजे ।

-  इन्जे , विटा , ' बी कम्प्लेक्स ( लीडले ) | 2 मि . ली . मांस में नित्य या तीसरे दिन । कुल - 10 से 20 इन्जे , पर्याप्त ।

नोट - भोजन के बाद - ' बी . जी . फॉस इलेक्सिर लिया जा सकता है ।
--------------------------------------------------

अग्निमांद्य की लक्षणानुसार चिकित्सा । >>

1 . सामान्य भूख की कमी में -   डायस्टेज 60 मि . ग्रा . , पेपेन 60 मि . ग्रा . , स्प्रिट अमोनिया एरोमेट 1 मि . ली . , टि . कार्ड 0 . 6 मि . ली . , पिपरमेण्ट वाटर 30 मि . ली . । ऐसी 1 मात्रा दिन में 2 बार , भोजन के बाद ।

2 , अजीर्ण , कब्ज , एवं गैस से उत्पन्न | अग्निमांद्य में -   गैसटोल ( Gastol ) - 1 - 2 टिकिया , भोजन के बाद , दिन में 3 बार चुसवायें ।

3 . अफारा ( Flatulent जन्य डिस्पे - प्सिया में -    अल्माजेल ( Almazel ) नि . ' आई . डी . पी . एल . - 1 - 2 गोली , दिन में 3 या 4 बार चूसें । आासीरप 10 - 20 मि . ली . दिन में 3 या 4 बार । अथवा ' अलमाकार्ब ( ग्लैक्सो ) 2 टिकिया , दिन में 3 बार । नोट - यह एक उत्तम गैस निरोधक है ।

4 . अम्ल युक्त डिस्पेप्सिया में -   एलूसिनोल ( Alucinol ) नि . ' फ्रेन्को - इंडिया 2 - 3 गोली दिन में 4 बार भोजनोपरान्त ।

नोट - इसका ' सस्पेन्शन भी आता है । ।

5 . नर्वस डिस्पेसिया में -   स्टेलाबिड ( Stclubid ) नि . ' स्केलेव ' या ' स्पेजारिल ' ( Spasril ) नि , ' मोण्टारी - 1 2 टिकिया - दिन में 3 - 4 बार । ।

नोट - स्टेलाविड - 2 ' भी आता है । ॥

6 . हाइपर एसीडिटी एव एनोरेक्सिया जन्य डिस्पेप्सिया में -    ' डिजीटोन लिक्विड ( Dczytone ) ' यूनीकेम ' 5 - 10 मि . ली . - दिन में 2 या 3 बार । अथवा - डिस्पेप्टेज लिक्विड ( Dispeptase Liquid ) नि , ‘ पास्चर कं , । मात्रा - 5 - 10 मि . ली . - भोजन के बाद दिन में 2 या 3 बार । ।

7 . पेट फूलना , अजी तथा छाती की जलन युक्त डिस्पेप्सिया में  -   टे . इनजार ( Tab . Enzar ) नि . वाल्टर वुशनेल - 1 - 2 टिकिया - दिन में 3 बार भोजन के मध्य में । चबायें नहीं । निगल जायें ।

8 . अजीर्ण , पेट फूलना एवं वृद्धावस्था का रोग ( old age Dispensia ) -   ' इन्जाइमेक्स - एम . . एस . ' ( Enzymex - M . P S . ) - 1 - 2 टिकिया - भोजनोपरान्त । ।

9 . अनिद्रा , आमाशय , बेचैनी युक्त डिस्पेप्सिया में -   ‘ डिस्पेप्टाल 1 डूंगी - दिन में 2 बार भोजनोपरान्त दें । साथ ही - ' लिवरियम ' । गोली - नित्य , सोते समय - 1 माह तक दें ।

10 . अजीर्ण , अग्निमांद्य , पेट फूलना क्रोनिक गैस्ट्राइटिस तथा पाचक रसों की कमी में  -   ओरीजाइम ( Orizyme ) नि . ' कोप्रान ' 1 - 2 चम्मच - दिन में 2 बार । ।

11 . सामान्य पाचन न होने की स्थिति -    ' नोरमोजाइम ' ( Normozyme ) नि . ' यूनीलुआइड्स - 2 चम्मच - दिन में 2 बार । नोट - इसकी ' ड्रगी ' भी आती है ।

12 . अजीर्ण , फरमेन्टिव डिस्पेप्सिया , छाती की जलन , एनोरेक्सिया -    विटाजाइम ' ( Vitazyme ) नि . ईस्ट इंडिया 2 से 3 चम्मच - दिन में 2 बार भोजन के समय या भोजनोपरान्त । । नोट - इसका ड्राप भी आता है ।

13 . अजीर्ण , डिस्पेप्सिया , पेट फूलना , गैस्ट्रिक फरमेन्टेशन , छाती की जलन एवं । विटामिन डिफीसिएन्सी -     ' लूपीजाइम सीरप ( Lupizyme Syrup ) नि . लूपिन ' 10 मि . ली . ( 2 चम्मच ) दिन में 2 बार भोजनोपरान्त । अथवा - ' ओरोजाइम ( Orizyme ) नि . ' क्रोपान - 2 - 5 मिली लीटर - दिन में 2 या 3 बार अथवा आवश्यकतानुसार दें ।

14 . पेट फूलना , अग्निमांद्य क्रानिक गैस्ट्राइटिस एवं एनोरेक्सिया -    पेप्सीनोजाइम ( Pepsinozyme ) नि . ' स्टेडमेड 1 - 2 टिकिया - दिन में 2 बार - भोजन के बाद ।

15 . हीन डाइजेशन ( Poor digestion ) -   रालक्रीजाइम ( Ralcrizyme ) नि . ' रैलिस 1 - 2 डूंगी - दिन में 2 बार - भोजन के बाद । ।

16 . पेट फूलना , डिस्पेप्सिया या क्रानिक गैस्ट्राइटिस कन्वल्सेन्स आदि में -   यूनीइन्जाइम ( Unienzyme ) नि . ' यूनीकेम 1 - 2 टिकिया - दिन में 2 - 3 बार - भोजन के बाद ।

17 . हाइड्रोक्लोरिक एसिड की कमी , बच्चों में बार - बार होने वाले दस्त , डिस्पेप्सिया में  -    विल्कोजाइम ( Vilco - enzyme ) नि . ' विल्कों कं . - 1 टिकिया , दिन में 2 बार भोजन के बाद । सीरप रूप में - बालक 1 . 25 मि . ली . । वयस्क - 5 - 10 मि . ली . भोजन अथवा दूध से पूर्व । ।

18 . पानिसक अजीर्ण -    युक्त | डिस्पेप्सिया में - टि . वेलाडोन 1 चम्मच , इलिक्सिर फीनोवाटोन 2 औंस ( 60 मि . ली . ) मिलाकर - 1 - 1 चम्मच की मात्रा में दिन में 3 बार दें । अथवा ' डिस्पेप्टाल डेगी ( नोल कं . ) एवं ' लिबरियम ( रोशे कं . ) टेबलेट को दिन में 2 बार खाना खाने के बाद दें ।

-----------------------------------------------------
अग्निमांद्य की मिश्रित चिकित्सा ० ( Combination Therapy ) >>

 प्रमुख लक्षण  -

1 . पित्ताशय की दुर्बलता के परिणाम स्वरूप उत्पन्न अग्निमांद्य में →  कौम्बीजाइम ( नि . न्योफार्मा ) 1 डेगी . डिस्पेप्टाल ( Dispeptal ) नि . ' बोह रिंगर ' 1 टिकिया मिलाकर दिन में 2 बार दें । ऊपर से ' इनजार फोर्ट ' ( Enzar forte ) नि . ' इल्डर ' कं . की 1 टिकिया चूसें । ।

2 . सामान्य अग्निमांद्य के नवीन रोग में →   पेप्सिनोजाइम ( PepsinozyTne ) नि . स्टेडमेड 1 टिकिया , सन्जाइम कम्पा उन्ड ( Sanzyme Compound ) नि . यूनिसांकियो - 1 टिकिया , बेसिलैक ( Becelac ) नि . फाइमेक्स 1 कैप्सूल । ऐसी 1 मात्रा दिन में 1 या 2 बार दें ।

3 . दीर्घकालिक अग्निमांद्य के रोग में -  यूनिइन्जाइम ( नि . यूनिकेम ) 1 टिकिया , सेरुटान ( नि . टिक ) की 1 टिकिया एवं
विलामाइड ( नि . इथनॉर ) 1 टिकिया तीनों को मिलाकर ऐसी एक मात्रा दें । ऊपर बी . जी . फॉस इलिजिर नि . मेरिण्ड - 10 मि . ली . ( 2 चम्मच ) बराबर पानी के साथ मिलाकर दिन में 3 बार प्रतिदिन 2 से 3 सप्ताह तक दें

4 . अग्निमांद्य के साथ - साथ शारीरिक दुर्बलता अथवा किसी बीमारी के बाद की दुर्बलता में -  पोलीबियोन1 टिकिया + लिबरियम 1 टिकिया + डेस्ट्रोल ( Destrol ) 1 टिकिया - इन तीनों को मिलाकर एक पुड़िया बना लें । ऐसी 1 पुड़िया खाना खाने के बाद खिलायें । ऊपर से ‘ बी . जी . फॉस इलेक्जिर ' 2 चम्मच एक भाग जल में मिलाकर दिन में 3 बार दें ।


पुराने रोग में - यूनीइन्जाइम 1 टिकिया , इक्वात्रोम 1 टिकिया , पेरीना ( Perinorm ) 1 टिकिया । ऐसी । पात्रा दिन में 2 - 3 बार दें । ऊपर से प्रति खुराक के बाद ' बी . जी . फॉस इलिजर 2 चम्मच पिलावें । चिकित्सा । माह तक ।
-------------------------------------------------------
भूख की कमी ( मन्दाग्नि ) में देने योग्य लेटेस्ट पेटेन्ट टेबलेट्स / कैप्सूल्स  >>>

1 . एरिस्टोजाइम कैप्सूल्स ( Aristozyme | Cap ) नि . ' एरिस्टो '   → 1 - 2 कै . , भोजनोपरान्त । ।

2 . बिलामाइड ( Bilanmidc ) नि , ' इथनॉर ' → 1 - 2 टिकिया , दिन में 3 बार , भोजनो परान्त । कुछ दिन की चिकित्सा के बाद , को घटा दें ।

3 . डीजीप्लेक्स - टी ( Digiplex - T ) नि . ' रेलिस → 2 डूंगी , दिन में 2 बार , भोजन के बाद । तीव्र ‘ आंत्रिक संक्रमण के विकारों के बाद की अवस्था में उपयोगी ।

4 . डिस्पेप्टाल ( Dispcplal ) नि . | ' बोहरिगर - मेनहेम ' → 1 - 2 डूंगी - भोजन के साथ । ।

5 . डीजेक ( Di / Cc ) नि , ' एस . के एफ ,  → 1 टिकिया - भोजन के बाद । ।

6 . इनजार फोर्ट ( En / ar fortc ) नि . ' इल्डर के . → 1 टिकिया चूसें एवं हर भोजन के साथ निगलें । ‘ अफराजन्य डिस्पेप्सिया में । तीव्र ‘ पित्ताशय शोथ की अवस्था में प्रयोग न करें ।

7 . फेस्टल ( Festal ) नि . ' हैक्स्ट ' → 1 - 2 डूंगी दिन में 2 - 3 बार 2 - 3 दिन तक । गम्भीर लिवर रोगों एवं ' हेपेटिक कॉमा में प्रयोग न करें ।

8 . मरकेनंजाइम ( Merckenzyme नि . | ‘ मर्क  → 1 टिकिया भोजन के साथ ।

9 . मोलजाइम ( Molzyme ) नि . ' एफ . डी . सी . → 1 - 2 टिकिया भोजन के बाद अथवा आवश्यकतानुसार ।

10 . निओपेप्टाइन कै . ( Neopeptine capsules ) नि . ' रेप्टाकोस → 1 कैप्सूल दिन में 2 बार । ।

11 . सेरुटान ( Serutan ) नि . टी . टी . के . → 1 - 3 टिकिया प्रमुख भोजन के साथ | अफारा युक्त अग्निमांद्य में ।

12 . रैलक्रिजाइम विद डी . एम . एस . ( Ralcrizyme with D . M . S . ) नि . " रैलिस ” -- वयस्कों को - 2 टिकिया भोजन के बाद दिन में 2 बार ।

--------------------------------------------------------
अग्निमांद्य में सेवन कराने योग्य अपडेट ऐलोपैथिक पेटेन्ट पेय / सीरप  >>>

1 . एरिस्टोजाइम लि . ( Aristozyme Liquid ) नि , ' एरिस्टों । → 1 - 2 चम्मच ( 5 - 10 मि . ली . ) भोजन के बाद । इसका ' ड्रॉप्स भी आता है । ।

2 . डीजीप्लेक्स ( Digiplex ) नि . रैलिस . → 2 चम्मच ( 10 मि . ली . ) भोजनोपरान्त । इसका ' ड्राप्स ' भी आता है । ।

3 . इलकेरिम ( Elcarim ) नि . टी . टी . के . → बालक 5 - 15 मि . ली . ( 1 - 3 चम्मच ) तथा शिशु में 1 / 4 - 1 / 2 चम्मच दिन में 3 बार । ।

"इसका ' ड्रॉप्स भी आता है । "

4 . मीथोजाइम ( Methozyme ) नि ' अखिल फार्मा ।  -   2 - 10 मि . ली . दिन में 2 बार । ।

5 . निओपेप्टाइन लि . नि . ' रेप्टाकोस → 1 चम्मच दिन में 2 बार । ।

6 . ओरेक्सीम ( Orexyme नि . कोप्रान . -  → 1 / 2 - 1 चम्मच दिन में 2 - 3 बार भोजन से | पूर्व या बाद में । ।

7 . टाकाजाइम ( Takazyme ) नि . पी . डी . -  → 1 - 2 चम्मच दिन में 3 बार जल से भोजन के बाद दें । स्टार्च वाले भोजन न पचने ।

8 . जाईमेक्स ( Zymex ) नि . ' मेडलेय ' । | → 3 चम्मच हर भोजन के बाद । ।

9 . विटाजाइम ( Vitazyme ) नि , ' ईस्ट | इंडिया  →5  - 10 मि . ली . भोजनोपरान्त 3 बार । ।

10 . लिवोजेन ( Livogen ) नि . ' एलनवरीज → पुराने रोग में 1 - 2 चम्मच भोजन से पूर्व ।

---------------------------------------------------
अग्निमांद्य में लगाने योग्य ऐलोपेथिक पेटेन्ट इन्जेक्शन  >>>

1 . इमेक्सोल ( Emakal ) नि . एम . एम . लैब्स   →2 मि . ली . मास में आवश्यकतानुसार या दिन में 2 - 3 बार । ।

2 . पेरिनॉर्म ( Perinorm ) नि , ' इपका →2 मि . ली . मांस में । ।

3 . विटामिन बी कम्पलेक्स ( Vitamin Complex ) नि . टी . सी . एफ . । → 2 मि . ली . मांस में नित्य 5 दिन । । तत्पश्चात हफ्ते में 3 या 4 बार 10 इन्जे . तक ।

4 . हिपाटेक्स टी ( HepatexT ) नि . ' ईवन्स  → दीर्घ कालिक रोग में 2 मि . ली . की सुई मास में लगावें । '

"निओ - हेपाटेक्स फोर्ट भी आता है । "

5 . युबीसिड ( Ubicid ) नि , ' यूनीकेम कं , ' → 1 - 2 मि . ली . मांस में रोजाना । कुल 10 इन्जे , पर्याप्त ।

6 .  बीप्लेक्स फोर्ट ( Bcplex Fortc ) नि ' एन्गलो फ्रेंच  →1 मि . ली . नित्य मांसपेशी में ।

7 . पोलीबिओन ( Polvbion ) नि , ' मर्क ' → 1 एम्पुल नित्य 5 दिन मांस में । तत्पश्चात 1 एम्पुल सप्ताह में 2 - 3 बार । ।

8 . फोस्फोटोन ( Phosphoton ) नि ' सिपला  →1 एम्पुल मांस में एक दिन छोड़कर । ।

9 . परकोर्टिन ( PerCortin ) नि . ' सीबा | → पुराने रोग में एक एम्पुल मांस में हफ्ते में 2 - 3 बार । ।




याद रखिये - उपरोक्त चाटों में कई - कई टेबलेट्स , कैप्सूल , पेय एवं इन्जेक्शन इसलिए लिखे गये हैं ताकि आपको आसानी से मिल सके और चिकित्सा में सुविधा हो ।
Previous
Next Post »