अब टी ए वी आर टेक्निक की मदद से खराब हार्ट वाल्व को आसानी से रिप्लेसमेंट कर सकते हैं? आखिर क्या है यह टेक्निक? कैसे काम करता है? Now with the help of TAVR Technic, can the replacement of the hard hard valve easily? What is this technique? How does it work?

हार्ट संबंधित बीमारी में अधिकतर प्रॉब्लम खराब वाल्व बदलने को लेकर रहती है लेकिन ट्रांस कैथेटर एआरटिक वाल्व रिप्लेसमेंट (टी ए वी आर) टेक्निक की मदद से यह काम बड़ी आसानी से हो रही है इसमे वह भी मरीज शामिल है जिससे ओपन हार्ट सर्जरी के लिए मनाही थी वह भी अब हार्ट के खराब वालों को इस टेक्निक की मदद से आसानी से रिप्लेस करा सकते हैं।

हार्ट वाल्व रिप्लेसमेंट में जो सबसे कॉमन तरीके को काम में लिया जाता है वही दशको पुराना ओपन हार्ट सर्जरी द्वारा किया जाता है, आज हमारे पास चिकित्सा विज्ञान के मामले में कहीं बेहतर तथा सुरक्षित तकनीकी मौजूद हैं इसी में हार्ट वाल्व को लेकर एक टेक्निक इजाद किया गया है जिसमें हार्ट वाल्व को एनजियोप्लास्टि एवं स्टेंटिंग की तरह कैथेटर रिलेटेड टेक्निक्स की मदद से आसानी से बदला जाता है।

 देश में तेजी से बढ़ रहे हैं ऐसे मरीज?
Are such patients in the country growing fast?
are such patients in the country growing fast?

हमारे देश में हार्ट प्रॉब्लम से पीड़ित मरीजों की संख्या में तेजी से वृद्धि हो रही है इसी में एआरटिक स्टेनालिसिस (यानी एआरटिक वाल्व का पतला हो जाना) एक कॉमन हार्ट प्रॉब्लम है जो व्यक्ति में जन्म से ही वाल्व की असमान संरचना के कारण इस रोग का कारण हो सकता है।

 मेडिकल अनफिट हैं 40 से 45% लोग?
Are Medical Unfait 40 to 45% People?
are medical unfit 40 to 45% people?

ऐसे लोगों की तादाद बहुत ज्यादा है लगभग 40 से 45% जो मेडिकली अनफिट हैं ऐसे लोग सर्जरी के लिए फिट नहीं माने जाते हैं ऐसी स्थिति में उन्हें अकारण ही मृत्यु का शिकार होना पड़ता है लेकिन अगर आज की बात करें तो आज हमारे पास ऐसी टेक्नोलॉजी है जो ऐसे लोगों के लिए फायदेमंद साबित होंगे, किसी भी चिरफाड के बिना भी आई नई तकनीक की मदद से परकविटेनिअस वाल्व (यानी त्वचा में पंक्चर के माध्यम से) कैथेटर(tube) डालकर खराब वालों को आसानी से बदला जा सकता है।

 इस प्रोसीजर से होता है काम?
Does this processor work?
does this processor work?

टीएवीआर तकनीक में जांघ के ऊपरी हिस्से में एक छोटा तथा मामूली सुराख़ किया जाता है तथा इसी सुराख में कृत्रिम हार्ट वाल्व को ट्यूब के आगे के सिरों में रखा जाता है और धीरे-धीरे खराब हार्ट वाल्व की ओर ले जाया जाता है तथा वहां खराब वाल्व को नष्ट करके वहां नए वाल्व लगाया जाता है लगाने के साथ ही नया वाल्व वर्क करना शुरू कर देता है तथा पंचर किए गए सुराख को पहले से तैयार किए गए एक विशेष प्रकार के सुचर की मदद से सील कर दिया जाता है।

इलाज के प्रोसेस के बाद मरीज को ठीक होने के लिए लगभग 24 घंटे के लिए वही रोका जा सकता है तथा उसके बाद कुछ मामूली ट्रीटमेंट के साथ वह डिस्चार्ज होने के लिए रेडी होता है और जरूरी बात इस प्रोसेस में मरीज को बिना बेहोश किए तथा बिना किसी प्रकार का एनेस्थीसिया का प्रयोग किये बिना किया जाता है बल्कि दर्द निवारक दवाइयों की मदद से इस पूरे प्रोसेस को अंजाम दिया जाता है।

 बुजुर्ग मरीजों के लिए अच्छा विकल्प?
Good choice for elderly patients?
good choice for elderly patients?

- ऐसे लोग जो ओपन हार्ट सर्जरी के लिए मेडिकली अनफिट हो।

- किसी गंभीर रोग से ग्रसित ऐसे व्यक्ति जो कि सर्जरी नहीं करा सकते हो।


- इस टेक्निक्स में जोखिम नहीं के बराबर होता है तथा इसके परिणाम मरीज को अच्छे ही मिलते हैं।


 एनजियोप्लास्टि तकनीक की तरह ही है यह तकनीक?
Is this technique similar to enzyoplasty technique?
is this technique similar to enzyoplasty technique?

यह टेक्निक बिल्कुल ही सरल है इसमें मरीज भले ही मेडिकली ओपन हार्ट सर्जरी के लिए अनफिट हो लेकिन इस खास तकनीक से टी ए वी आर के द्वारा नए वाल्व को भीतर पहुंचा कर इलाज किया जाता है जब बिल्कुल एनजियोप्लास्टि एवं स्टेंट की तरह ही सिंपल टेक्निक है।

पूरे विश्व में इस तकनीक की मदद से 5 लाख से भी अधिक मरीजों का सफल इलाज किया जा चुका है इस लिहाज से t a v r की प्रक्रिया हमारे भारत देश में मौजूद मरीजों के लिए एक वरदान से कम नहीं इनमें खास वो लोग शामिल हैं जो किसी कारण से ओपन हार्ट सर्जरी कराना नहीं चाहते या फिर अनफिट हो।

Previous
Next Post »